अंपायर का ये गजब फैसला कभी नहीं भूलेगा पंजाब, जिसने पलट दिया मैच

Royal-enfield-ntn
रॉयल एनफील्ड की दो नई ऑफ-रोड बाइक्स लॉन्च, शुरुआती कीमत 1.62 लाख
28/03/2019
ASAT-NTN
पोखरण जैसा सीक्रेट था ‘मिशन शक्ति’, सिर्फ 5 या 6 लोगों को ही थी जानकारी
28/03/2019

अंपायर का ये गजब फैसला कभी नहीं भूलेगा पंजाब, जिसने पलट दिया मैच

kings-xi-Punjab-ntn


आईपीएल 2019 के छठे मैच में बुधवार को किंग्स इलेवन पंजाब और मेजबान कोलकाता नाइट राइडर्स आमने-सामने थीं। कोलकाता के ईडेन गार्ड्न्स में खेले गए इस मुकाबले में कई खिलाड़ियों का शानदार प्रदर्शन देखने को मिला लेकिन मैच में एक ऐसा पल, एक ऐसा फैसला भी देखने को मिला जिसने पंजाब को हैरान कर दिया। ये फैसला अंपायर का था और बिल्कुल सटीक था। यही वो फैसला था जिसे पंजाब की टीम कभी नहीं भूल पाएगी। इसी फैसले के जरिए कोलकाता को ऐसा जीवनदान मिला कि वो 218 के विशाल स्कोर तक जा पहुंचे और बाद में पंजाब को 28 रनों से मात दी। आइए जानते हैं क्या था मामला।
हुआ क्या थाः कोलकाता की टीम पहले बल्लेबाजी कर रही थी। उनका स्कोर सामान्य स्थिति में था लेकिन कोई भी शायद उस समय ये नहीं सोच रहा था कि वे 218 के विशाल स्कोर तक पहुंच जाएंगे। इसी दौरान 17वें ओवर में मोहम्मद शमी गेंदबाजी करने आए। पिछले मैच में धुआंधार पारी खेलने वाले आंद्रे रसेल अभी थोड़ी देर पहले ही पिच पर आए थे और 5 गेंदों पर 3 रन बनाकर खेल रहे थे। तभी शमी ने एक शानदार गेंद पर रसेल को बोल्ड कर दिया। कोलकाता के लिए ये बड़ा झटका था, मैदान पर सन्नाटा पसर गया था, स्टैंड्स में बैठे टीम के मालिक शाहरुख खान का चेहरा भी मुरझा गया था। पंजाब के लिए ये बड़ी सफलता थी इसलिए उनके खिलाड़ी जश्न मनाने में जुट गए थे। बाद में ध्यान दिया तो पता चला कि अंपायर ने नो-बॉल का इशारा कर दिया था।
क्यों दी नो-बॉल
दरअसल अंपायर ने देखा कि उस समय घेरे (सर्किल) के अंदर पंजाब के तीन फील्डर खड़े थे, जबकि नियमों के मुताबिक टीम को उस समय सर्किल के अंदर 4 फील्डर रखना अनिवार्य होता है। ऐसा ना होने पर अंपायर उस गेंद को नो-बॉल करार दे सकता है और अंपायर ने यही किया भी। पिछले मैच में मांकेडिंग के जरिए जोस बटलर को रन आउट करने वाले पंजाब के कप्तान रविचंद्रन अश्विन ने अपनी सफाई में कहा था कि नियम जो कहते हैं वही होना चाहिए और उन्होंने कुछ गलत नहीं किया व खेल भावना का उससे कुछ लेना-देना नहीं। इस बार नियम उन्हीं की टीम पर भारी पड़ गए क्योंकि उसके बाद और भी गजब धमाका हुआ।
रसेल का धमाका शुरू
जब नो बॉल फेंकी गई थी तब कोलकाता का स्कोर कुल 161 रन था और उन्होंने अगली 19 गेंदों पर 57 रन बनाए जिसमें रॉबिन उथप्पा (नाबाद 67) का भी योगदान रहा। जाहिर तौर पर अब कप्तान रविचंद्रन अश्विन हमेशा अपने फील्डरों व नियमों को ध्यान रखेंगे।
रसेल को आउट करने से पंजाब की टीम चूक गई थी और इस बल्लेबाज ने इसका जमकर फायदा उठाया। आलम ये रहा कि अगली 12 गेंदों में वेस्टइंडीज के धाकड़ खिलाड़ी ने 45 रन जड़ डाले। उन्होंने मैच में 17 गेंदों पर 48 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली जिसमें 5 छक्के और 3 चौके शामिल रहे। वो नो-बॉल पंजाब को बहुत भारी पड़ी क्योंकि उस गेंद के बाद रसेल ने जमकर धमाल मचाया और शमी की अगली 5 गेंदों पर रसेल ने 23 रन जड़ डाले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *