Pulwama Terror Attack: जिनकी शहादत से देश की आंखें हैं नम, सरकारी रिकॉर्ड में नहीं कहलाएंगे ‘शहीद’, तेजस्वी ने की यह मांग

pm-modi-ntn
मोदी ने पेश किया सरकार का रिपोर्ट कार्ड, महागठबंधन को बताया महामिलावट
07/02/2019
jaish-e-mohammed-ntn
पाकिस्तान नहीं, टेररिस्तान कहिए; पड़ोसी देश की धरती से ऑपरेट होते हैं ये खूंखार आतंकी संगठन
15/02/2019

Pulwama Terror Attack: जिनकी शहादत से देश की आंखें हैं नम, सरकारी रिकॉर्ड में नहीं कहलाएंगे ‘शहीद’, तेजस्वी ने की यह मांग

Pulwama-Terror-Attack-ntn

जम्मू कश्मीर के पुलवामा (Pulwama Attack) में हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ (CRPF) के 40 से अधिक जवान शहीद हो गए. आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस आत्मघाती हमले की जिम्मेदारी ली है. हमला उस समय हुआ जब सीआरपीएफ (Central Reserve Police Force) के 78 गाड़ियों के एक काफिले को जैश आतंकी ने 350 किलो विस्फोटक से भरी एक गाड़ी को जवानों से भरे बस में भिड़ा दिया, जिससे बस के परखच्चे उड़ गए. बताया जा रहा है कि हमले में IED (Improvised Explosive Device) का इस्तेमाल किया गया. हमले को लेकर पूरा देश गुस्से में है. पीएम मोदी ने कहा कि आतंकी संगठनों और उनके सरपरस्त बहुत बड़ी गलती कर चुके हैं. उन्हें बहुत बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी. मैं देश को भरोसा देता हूं, हमले के पीछे जो ताकतें हैं, इस हमले के जो भी गुनहगार हैं, उन्हें उनके किए की सजा अवश्य मिलेगी.

उधर, इन सबके बीच अर्धसैनिक बलों को शहीद का दर्जा देने की मांग एक बार फिर उठी है. वहीं, अगर थलसेना, नौसेना और वायुसेना का जवान ड्यूटी के समय जान गंवाता है तो उन्हें शहीद का दर्जा (Martyr Status) मिलता है.
आतंकियों से लड़कर शहीद हुए अर्धसैनिक बलों (CRPF, BSF, ITBP etc) के जवानों को सरकार शहीद तो बोलती है लेकिन शहीद का दर्जा नहीं देती। हमारी पुरज़ोर माँग है कि पैरामिलिट्री के जवानों को शहीद के दर्जे के साथ-साथ शहीद परिवारों को मिलनी वाली सभी सुविधाएँ मिलनी चाहिए। जय हिंद, जय भारत
राजद नेता और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) ने ट्वीट किया, ‘आतंकियों से लड़कर शहीद हुए अर्धसैनिक बलों (CRPF, BSF, ITBP etc) के जवानों को सरकार शहीद तो बोलती है, लेकिन शहीद का दर्जा नहीं देती. हमारी पुरज़ोर मांग है कि पैरामिलिट्री के जवानों को शहीद के दर्जे के साथ-साथ शहीद परिवारों को मिलने वाली सभी सुविधाएं भी मिलनी चाहिए. जय हिंद, जय भारत.
बता दें कि CRPF, BSF हो या फिर दूसरी पैरामिलिट्री फोर्स का जवान अगर किसी आतंकी हमले में वीरगति को प्राप्त होता है तो उसे सेना के जवान की तरह से शहीद का दर्जा नहीं दिया जाता है. इतना ही नहीं सेना के शहीद जवान के परिवार को मिलने वाले मुआवजे और दूसरी सुविधाएं जैसे लाभ भी पैरामिलिट्री फोर्स के जवान के परिवारों को नहीं मिलती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *